3 मार्च से आदिवासी लोक संस्कृति का प्रतीक भौंगर्या हाट

बड़वानी/जुलवानिया
 आदिवासी लोक संस्कृति एवं सभ्यता का प्रतीक तथा देश-विदेश में प्रसिद्ध भौंगर्या हाट 3 मार्च से अंचल में शुरू होंगे। सालभर में केवल होली के एक सप्ताह पहले 7 दिनों तक लगने वाले भौंगर्या हाट में आदिवासी समाज अपनी संस्कृति से जुड़ाव के चलते मांदल की थाप, थाली की खनक तथा बांसुरी की धून पर उमंग-उत्साह व मस्ती से भरपूर कुर्राटियों के साथ नृत्य का अंदाज ही कुछ ओर होता है, लेकिन आधुनिकता के चलते कुछ वर्षों से भौंगर्या हाट के रूप में परिवर्तन देखने को मिलता है।

आदिवासी क्षेत्रों को छोड़ दिया जाए तो नगर में लगने वाले भौंगर्या हाट में सिर्फ चुनिंदा मांदल की थाप व थाली की खनक के साथ कुछ समय के लिए बुजुर्गों की कुर्राटियां सुनाई देती है। बांसुरी की मधुर धून, पारंपरिक वेशभूषा में घुंघरु पहन थिरकती युवतियां तथा युवाओं की मदमस्त टोली गायब ही हो गई है।

भौंगर्या आदिवासियों का त्योहार न होकर केवल हाट बाजार मात्र होता है। इसमें समाज के लोग होलिका दहन से पहले होलिका पूजन की सामग्री भुंगड़ा, गुड़, दाली, हार कंगन, खजूर, मीठी सेंव आदि खरीदते है। पारंपरिक वेशभूषा के साथ ड्रेस कोड तय कर एक जैसे नए परिधान में गहनों से लदी युवतियों की टोली ने अब सलवार-कुर्ती तथा महिलाओं के प्रिंटेड लुगड़े व लहंगेदार घाघरे की जगह साडिय़ों ने ले रखी है। वहीं फुंदे वाले रंग बिरंगे रूमाल गले में डाल झुमते युवा जींस, टी-शर्ट में नजर आते है।

झुले नहीं लगने से फिका रहता उत्साह

स्थानीय भौंगर्या हाट की बात करे तो पिछले कुछ वर्षों से नगर मे लगने वाले भौंगर्या हाट मे झुले नहीं लगने से युवक-युवतियों के उत्साह व भौंगर्या की रंगत में कमी नजर आती है। करीब 7-8 वर्ष पूर्व भौंगर्या हाट के दौरान झुला गिरने की घटना के बाद से नगर के भौंगर्या हाट मे झूलों का लगना ही बंद हो गया है। तब की घटना के बाद नगर के भौंगर्या हाट में झुला संचालकों को प्रशासन द्वारा झुले लगाने की अनुमति नहीं देना व बाद के वर्षों में झुला संचालकों का यहां से ना उम्मीद होना भौंगर्या हाट में मनोरंजन में कमी का मुख्य कारण रहा।

Noman Khan
Author: Noman Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के अवसर पर जन अभियान परिषद् द्वारा पुलिस सामुदायिक भवन में जिला स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोज, अतिथि एवं वक्ताओं ने विवेकानंदजी के व्यक्तित्व तथा कृतित्व रखे अपने-अपने विचार

वनवासी कल्याण परिषद युवा प्रमुख एवं हित रक्षा तथा समस्त विद्यार्थियों ने मिलकर निकाली रैली, 1710 विद्यार्थियों द्वारा हस्ताक्षर कर ऑनलाइन परीक्षा केंद्र जिले में खोले जाने एवं कृषि महाविद्यालय की मांग को लेकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के अवसर पर जन अभियान परिषद् द्वारा पुलिस सामुदायिक भवन में जिला स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोज, अतिथि एवं वक्ताओं ने विवेकानंदजी के व्यक्तित्व तथा कृतित्व रखे अपने-अपने विचार

वनवासी कल्याण परिषद युवा प्रमुख एवं हित रक्षा तथा समस्त विद्यार्थियों ने मिलकर निकाली रैली, 1710 विद्यार्थियों द्वारा हस्ताक्षर कर ऑनलाइन परीक्षा केंद्र जिले में खोले जाने एवं कृषि महाविद्यालय की मांग को लेकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

कांग्रेस ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बस स्टैंड फव्वारा चौक पर प्रतिमा पर किया माल्यार्पण, भारत जोड़ो यात्रा के बाद अब हाथ से हाथ जोड़ो अभियान के तहत घर-घर जाकर किया संपर्क, कांग्रेस के प्रदेश महासचिव जेवियर मेड़ा एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रांका के नेतृत्व में हुआ कार्यक्रम

[adsforwp id="60"]
error: Content is protected !!