राहत कैंपों में भरा बारिश का पानी, दिल्ली हिंसा के पीड़ितों पर कुदरत का कहर

 
नई दिल्ली 

 दिल्ली हिंसा में अपने सिर के ऊपर की छत गंवा चुके पीड़ितों पर कुदरत भी कहर बरपा रहा है. गुरुवार और शुक्रवार को हुई बारिश ने राहत कैंपों में शरण लिए हिंसा पीड़ितों की मुश्किलें कई गुना बढ़ा दी है. दिल्ली के मुस्तफाबाद में राहत कैंपों के अंदर बारिश का पानी भर गया. इसने दिल्ली सरकार की बदइंतजामी की भी पोल खोल दी है. इन पीड़ितों ने पहले हिंसा का दंश झेला और अब बारिश से जूझ रहे हैं.

मुस्तफाबाद के कैंपों में पहले से ही काफी ज्यादा संख्या में हिंसा प्रभावित लोग शरण लिए हुए थे, जिनकी जिंदगी को बारिश ने और मुश्किल बना दिया है. राहत कैंपों के अंदर बारिश का पानी आने से हिंसा पीड़ित न बैठ पा रहे हैं और न ही सो पा रहे हैं. दिल्ली हिंसा के दौरान उपद्रवियों ने इन लोगों के घरों को आग के हवाले कर दिया गया था. इसके बाद से ये लोग मजबूर होकर मुस्तफाबाद के राहत कैंपों में शरण लिए हुए हैं.

दिल्ली सरकार ने हिंसा पीड़ितों के लिए मुस्तफाबाद में राहत कैंप बनवाए हैं. ये राहत कैंप कपड़े के टेंट के बने हुए, जो पूरी तरह से वाटरप्रूफ नहीं हैं. लिहाजा गुरुवार रात और शुक्रवार को हुई बारिश का पानी कैंपों के अंदर चला गया. कई टेंटों की छत से भी पानी टपक रहा है. इसके चलते हिंसा पीड़ितों के कपड़े और बिस्तर भी गीले हो गए.

राहत कैंपों में मासूम बच्चों की जिंदगी हुई मुश्किल

मुस्तफाबाद के एक कैंप में शरण लिए नूरजहां ने बताया कि गुरुवार रात को हुई बारिश का पानी कैंप के अंदर आ गया, जिसके चलते रातभर बच्चे भी नहीं सो पाए. दिल्ली हिंसा के दौरान उपद्रवियों ने शिव विहार स्थित नूरजहां के घर को आग के हवाले कर दिया था.
  
दिल्ली सरकार के अलावा गैर-लाभकारी सरकारी संगठनों ने हिंसा पीड़ितों के लिए दवाओं, कंबल, बिस्तर और कपड़े की व्यवस्था की है. हालांकि ये पर्याप्त नहीं हैं. इसकी वजह यह है कि राहत कैंपों में काफी संख्या में लोग शरण लिए हुए हैं.

सोचा भी नहीं था कि ऐसे तबाह होगी जिंदगी: हिंसा पीड़ित

राहत कैंप में अपने बच्चों और बहुओं के साथ ठहरी 65 वर्षीय नबीला का कहना है कि कुछ दिन पहले तक हम लोगों का अच्छा खासा घर था. हमने कल्पना भी नहीं की थी कि हमारी जिंदगी ऐसे तबाह हो जाएगी. उपद्रवियों ने पहले हमारे घर को लूटा और फिर गैस सिलेंडरों से घर में आग लगा दी. हम नहीं जानते हैं कि अब हमारी जिंदगी का क्या होगा. नबीला की एक बहू ने बताया कि अब वो अपने बच्चों के भविष्य को लेकर बेहद चिंतित है. उनका कहना है कि यह कोई जिंदगी नहीं हैं.

उस्मानपुर के राहत कैंपों में नहीं पहुंचे हिंसा पीड़ित

मुस्तफाबाद के अलावा दिल्ली सरकार ने उस्मानपुर में भी राहत कैंप बनाए हैं, लेकिन हैरानी की बात यह है कि यहां कोई भी हिंसा पीड़ित नहीं पहुंच रहा है. जब आजतक की टीम कैंप नंबर 225 पहुंची, तो वहां सिर्फ तीन लोग ही मिले और वो भी हिंसा पीड़ित नहीं थे. यही हाल कैंप नंबर 202 का भी रहा.

Noman Khan
Author: Noman Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के अवसर पर जन अभियान परिषद् द्वारा पुलिस सामुदायिक भवन में जिला स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोज, अतिथि एवं वक्ताओं ने विवेकानंदजी के व्यक्तित्व तथा कृतित्व रखे अपने-अपने विचार

वनवासी कल्याण परिषद युवा प्रमुख एवं हित रक्षा तथा समस्त विद्यार्थियों ने मिलकर निकाली रैली, 1710 विद्यार्थियों द्वारा हस्ताक्षर कर ऑनलाइन परीक्षा केंद्र जिले में खोले जाने एवं कृषि महाविद्यालय की मांग को लेकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

कांग्रेस ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बस स्टैंड फव्वारा चौक पर प्रतिमा पर किया माल्यार्पण, भारत जोड़ो यात्रा के बाद अब हाथ से हाथ जोड़ो अभियान के तहत घर-घर जाकर किया संपर्क, कांग्रेस के प्रदेश महासचिव जेवियर मेड़ा एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रांका के नेतृत्व में हुआ कार्यक्रम

झाबुआ का भगोरिया नृत्य अब विदेशों के मंच पर भी धूम मचाने को है तैयार, इंदौर में आयोजित प्रवासी भारतीय सम्मेलन में रंग आरोहण नाट्य संस्था के कलाकारों की प्रस्तुति से मंत्रमुग्ध हुए प्रवासी भारतीय, अबू धाबी, अफ्रीका, जर्मनी, कतर में प्रस्तुति देने के लिए किया आमंत्रित, भारतभर में धूम मचा रहे संस्था के युवा कलाकार

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के अवसर पर जन अभियान परिषद् द्वारा पुलिस सामुदायिक भवन में जिला स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोज, अतिथि एवं वक्ताओं ने विवेकानंदजी के व्यक्तित्व तथा कृतित्व रखे अपने-अपने विचार

वनवासी कल्याण परिषद युवा प्रमुख एवं हित रक्षा तथा समस्त विद्यार्थियों ने मिलकर निकाली रैली, 1710 विद्यार्थियों द्वारा हस्ताक्षर कर ऑनलाइन परीक्षा केंद्र जिले में खोले जाने एवं कृषि महाविद्यालय की मांग को लेकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

कांग्रेस ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बस स्टैंड फव्वारा चौक पर प्रतिमा पर किया माल्यार्पण, भारत जोड़ो यात्रा के बाद अब हाथ से हाथ जोड़ो अभियान के तहत घर-घर जाकर किया संपर्क, कांग्रेस के प्रदेश महासचिव जेवियर मेड़ा एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रांका के नेतृत्व में हुआ कार्यक्रम

झाबुआ का भगोरिया नृत्य अब विदेशों के मंच पर भी धूम मचाने को है तैयार, इंदौर में आयोजित प्रवासी भारतीय सम्मेलन में रंग आरोहण नाट्य संस्था के कलाकारों की प्रस्तुति से मंत्रमुग्ध हुए प्रवासी भारतीय, अबू धाबी, अफ्रीका, जर्मनी, कतर में प्रस्तुति देने के लिए किया आमंत्रित, भारतभर में धूम मचा रहे संस्था के युवा कलाकार

[adsforwp id="60"]
error: Content is protected !!