चीन में कोरोना वायरस से अब तक 2,977 से ज्यादा मौतें, अमेरिका में भी एक मौत

पेइचिंग
नॉवेल कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में तमाम शोध किए जा रहे हैं। लेकिन अभी तक इन शोध में पता चली जानकारी के मुताबिक इस वायरस की शुरुआत कहां से हुई, यह पता लगाना अभी भी मुश्किल है। ऐक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना वायरस के ओरिजिन का पता लगाने कि लिए और ठोस व ऑथेंटिक रिसर्च कि जाने की जरूरत है। ग्लोबल टाइम्स ने शनिवार को कोरोना से जुड़ी यह रिपोर्ट पब्लिश की। गौर करने वाली बात है कि अब तक कोरोना वायरस से 2,977 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।

शनिवार को आईं मीडिया रिपोर्ट्स कहना है कि अमेरिका में अभी तक COVID-19 के कम से कम चार मामले मिले हैं जिनके सोर्स का अभी पता नहीं चला है। झांग ने कहा, 'दोनों बातों को अभी एक साथ रखकर देखा जाना चाहिए और जब तक पर्याप्त सबूत ना हों किसी सटीक जानकारी से बचना चाहिए।'

चीन का वुहान नहीं है कोरोना का केंद्र!
21 फरवरी को चाइनीज़ अकेडमी ऑफ साइंसेज में असोसिएट प्रफेसर यू वेनबिन ने एक रिसर्च पेपर सबमिट किया। इस पेपर में संकेत दिए गए हैं कि हो सकता है वुहान में हुआनन सीफूड मार्केट कोरोना वायरस का केंद्र ना हो। आर्टिकट में कहा गया है कि 58 नए कोरोनावायरस के हैप्लोटाइप्स को H1-H58 नंबर दिए गए। इन्हें 5 ग्रुप A, B, C, D और E में बांटा गया है, जिनमें A सबसे बड़ा और E सबसे छोटा वायरस है। हालांकि, हुबेई में सिर्फ ग्रुप C के कोरोना वायरस का ही पता लगा है। लेकिन अमेरिका में इन पांचों ग्रुप के वायरस को देखा गया है।

हालांकि, यू और उनके कर्मचारियों का मानना है कि हो सकता है हुबेई में मौजूद नॉवेल कोरोना वायरस कहीं और से आकर यहां फैला हो। उन्होंने आगे स्पष्ट किया कि यह रिसर्च विज्ञान पर आधारित है। उनके मुताबिक, 'अगर अमेरिका में मिले नॉवेल कोरोना वायरस के सभी टेस्ट रिजल्ट ग्रुप सी के पाए जाते हैं, तो कहा जा सकता है कि यह चीन से ही फैला। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो हो सकता है कि यहीं से फैला हो।'
 

और ज्यादा शोध की जरूरत
हाल ही में ताइवान में एक लोकल टीवी शो में फार्माकोलॉजिस्ट पैन हुवेई जॉन्ग ने इस आर्टिकल का हवाला दिया। उनका कहना था कि अमेरिका में COVID-19 के मामले देखें तो यहां मेनलैंड चीन के मुकाबले नए कोरोना वायरस के ज्यादा मल्टीपल जेनेटिक टाइप देखने को मिले हैं।

शनिवार को वुहान के वायरोलॉजिस्ट यांग झैंनक्यू ने ग्लोबल टाइम्स को बताया कि अमेरिका में इन्फ्लुऐंजा से हुई मौत के कारणों का पता लगाने के लिए अभी और ज्यादा शोध की जरूरत है। इन्फ्लुऐंजा की शुरुआत कहां से हुई, इस निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले विस्तृत जांच होनी चाहिए। कई ऐसे सबूत हैं जो COVID-19 से जुड़ी जानकारियों को मुश्किल कर रहे हैं।

अमेरिका और इटली में कोरोना से मौत
स्थानीय पब्लिकेशन ला रिपब्लिका ने खबर दी थी कि इटली में एक ऐसे व्यक्ति की मौत हुई है जो चीन के किसी भी नागिरक से कभी नहीं मिला।

वहीं कैलिफोर्निया में एक ऐसे व्यक्ति को कोरोना ने अपनी गिरफ्त में ले लिया, जिसने वायरस से प्रभावित किसी भी जगह की यात्रा नहीं की थी। यह मरीज किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में भी नहीं आया था।

अमेरिका में कोरोना वायरस से पहली मौत की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि पहले चार मामलों का पता चलने के बाद वॉशिंगटन राज्य में एक संक्रमित मरीज की मौत हो गई। यह घटना किंग काउंटी की है, जो राज्य का सबसे अधिक की आबादी वाला क्षेत्र है। यहां की आबादी 700,000 से अधिक है। पीड़ित की तुरंत पहचान नहीं हो पाई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह कोरोना वायरस को लेकर मीडिया को संबोधित करेंगे।

Noman Khan
Author: Noman Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
[adsforwp id="60"]
error: Content is protected !!