दिल्ली हिंसा पर PIL, CJI बोले- इतना दबाव नहीं झेल सकते, हमारी भी कुछ सीमाएं

नई दिल्ली

दिल्ली हिंसा का मामला अब सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है. सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में हिंसा और हेट स्पीच को लेकर जनहित याचिका दाखिल की गई है. इन याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगा. हालांकि, याचिका पर सुनवाई से पहले चीफ जस्टिस एसए बोवड़े ने बड़ी टिप्पणी की.

सीजेआई एसए बोवड़े ने कहा कि हम यह नहीं कह रहे हैं कि लोगों को मरना चाहिए, लेकिन इस तरह का दबाव कोर्ट नहीं संभाल सकता. यह उम्मीदें होती है कि यह अदालत दंगा रोक सकती है. हम केवल एक बार कुछ हो जाने के बाद ही कुछ कर सकते हैं. हम पर एक तरह का दबाव महसूस होता है.

'हमारी शक्तियों की सीमाएं हैं'

सीजेआई एसए बोवड़े ने कहा कि ऐसा लगता है जैसे कि अदालत जिम्मेदार है. हम अखबारों को भी पढ़ते हैं, हम इस मामले को सुनेंगे लेकिन यह समझना होगा कि अदालत घटना के बाद आती है. कोर्ट इसे रोक नहीं सकता. हम शांति की अपील करते हैं लेकिन हम जानते हैं कि हमारी शक्तियों की सीमाएं हैं.

याचिका पर जल्द सुनवाई की मांग

वरिष्ठ वकील कॉलिन गोंजाल्विस ने चीफ जस्टिस एसए बोवड़े को बताया कि हर्ष मंदर और पांच पीड़ितों की ओर से याचिका दाखिल की गई है. इस मामले में जल्द सुनवाई की जरूरत है. रोजाना लोग मारे जा रहे हैं. सत्ताधारी पार्टी के लोगों ने हिंसा भड़काने वाले बयान दिए. दिल्ली हाई कोर्ट ने कुछ देर मामले की सुनवाई कर 6 हफ्ते के लिए मामले को टाल दिया. इसी तरह हाई कोर्ट ने जामिया हिंसा मामले में भी किया था.

बीजेपी नेताओं के खिलाफ याचिका

सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता हर्ष मंदर ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं कपिल मिश्रा, अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है. हर्ष मंदर ने ही इन तीनों नेताओं के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की थी, जिस पर हाई कोर्ट ने 13 अप्रैल को सुनवाई की अगली तारीख तय की है.

हेट स्पीच में FIR दर्ज करने की मांग

अपनी याचिका में हर्ष मंदर ने दिल्ली हाई कोर्ट के उस आदेश को भी चुनौती दी है, जिसके जरिए इस मामले की सुनवाई लंबे समय तक टाल दी गई. याचिका में बीजेपी नेताओं कपिल मिश्रा, अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की गई है. इन तीनों नेताओं पर हेट स्पीच देने का आरोप है, जिसके बाद दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में हिंसा भड़क गई.

23 अप्रैल को हेट स्पीच मामले में सुनवाई

इसके अलावा बीजेपी नेताओं अनुराग ठाकुर और परवेश वर्मा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग वाली याचिका पर दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट 23 अप्रैल को सुनवाई करेगी. माकपा नेता वृंदा करात ने दोनों बीजेपी नेताओं के खिलाफ दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान हेट स्पीच देने के मामले की शिकायत की है.

Noman Khan
Author: Noman Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
[adsforwp id="60"]
error: Content is protected !!