अच्छी खबर! अब घर की छत पर सिर्फ सब्जी ही नहीं उगाइये, मछली पालन भी करें

 भागलपुर 
अब घर की छतों पर आप सिर्फ सब्जी ही नहीं उगा सकते, बल्कि मछली पालन भी कर सकते हैं। मत्स्य विभाग की इस योजना से जिले के इच्छुक लोगों को जोड़ने की कवायद हो रही है। बायोफ्लॉक विधि से मछली पालन की इस योजना के लिए शुरुआती दौर में मछली पालकों को कुछ यूनिट के लिए अनुदान देने का भी प्रावधान है। अगर योजना लोकप्रिय हुई तो इसे भविष्य में और विस्तार दिया जा सकता है। 

जिला मत्स्य पदाधिकारी संजय कुमार किस्कू ने बताया कि इस प्लांट को लगाने के लिए घर की छत का इस्तेमाल होगा, लेकिन छत को कोई नुकसान नहीं होगा। मछली पालन के लिए प्लास्टिक पांड बनाया जाएगा, जो एक फ्रेम पर टिका रहेगा। मछली खाने वाले भी इस योजना के तहत छोटे स्तर पर मछली उत्पादन कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि छोटी यूनिट पर 8.5 लाख रुपये का खर्च और बड़ी यूनिट पर 13 लाख रुपये खर्च आएगा। इस पर 50 और 75 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान है। इस व्यवस्था के तहत छह माह के अंदर मछली तैयार हो जाएगा।

इसके लिए बीज की आपूर्ति बाहर से करायी जाएगी। जिला मत्स्य पदाधिकारी ने बताया कि इस योजना के तहत सीलन मछली, कबैय, कैट फिश की प्रजाति जैसे मंगुरी, सिंघी आदि मछलियों का पालन हो सकता है। मछलियों के लिए भोजन भी बाजार से उपलब्ध हो सकता है। उन्होंने बताया कि जो मछलियां इसमें पाली जा सकती हैं, उसकी वृद्धि दर अधिक है। फिलहाल जो योजना आयी है, वह चार यूनिट जेनरल कैटेगरी के लोगों के लिए है। इसके अलावा ईबीसी और एससी/एसटी कैटोगरी के लिए भी अनुदान उपलब्ध है। अनुदान के लिए अभी इच्छुक उम्मीदवारों से आवेदन लिए जा रहे हैं। जल्द ही लाभुकों का चयन कर लिया जाएगा।                                                                  

विभाग को और यूनिट पर अनुदान देना चाहिए
बायोफ्लॉक विधि से बिना सरकारी मदद के लिए मछली पालन की तैयारी कर रहे शहर के डॉ. देवज्योति मुखर्जी बताते हैं कि यह जितनी अच्छी योजना है, उसके अनुरूप सरकारी यूनिट नहीं मिल रही है। छह- सात यूनिट के लिए ही सरकार अनुदान दे रही है, जबकि आवेदकों की संख्या काफी अधिक हो सकती है।

उन्होंने बताया कि हाल ही में उन्होंने इस योजना के लिए अपने स्तर से परिचर्चा कार्यक्रम में भी आयोजित किया था। इसमें भागलपुर ही नहीं, आसपास के जिले के लोगों को भी बुलाया गया था। मुखर्जी कहते हैं कि बायोफ्लॉक मछली उत्पादन बिहार-झारखण्ड के इकॉनामी को एक नयी दिशा दे सकता है। जरूरत है इसे बढ़ावा देने की। इसे लोग अपनी उपजीविका के रूप में भी चुन सकते हैं। 

Noman Khan
Author: Noman Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के अवसर पर जन अभियान परिषद् द्वारा पुलिस सामुदायिक भवन में जिला स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोज, अतिथि एवं वक्ताओं ने विवेकानंदजी के व्यक्तित्व तथा कृतित्व रखे अपने-अपने विचार

वनवासी कल्याण परिषद युवा प्रमुख एवं हित रक्षा तथा समस्त विद्यार्थियों ने मिलकर निकाली रैली, 1710 विद्यार्थियों द्वारा हस्ताक्षर कर ऑनलाइन परीक्षा केंद्र जिले में खोले जाने एवं कृषि महाविद्यालय की मांग को लेकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

स्वामी विवेकानंद की 159वीं जयंती के अवसर पर जन अभियान परिषद् द्वारा पुलिस सामुदायिक भवन में जिला स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोज, अतिथि एवं वक्ताओं ने विवेकानंदजी के व्यक्तित्व तथा कृतित्व रखे अपने-अपने विचार

वनवासी कल्याण परिषद युवा प्रमुख एवं हित रक्षा तथा समस्त विद्यार्थियों ने मिलकर निकाली रैली, 1710 विद्यार्थियों द्वारा हस्ताक्षर कर ऑनलाइन परीक्षा केंद्र जिले में खोले जाने एवं कृषि महाविद्यालय की मांग को लेकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

कांग्रेस ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बस स्टैंड फव्वारा चौक पर प्रतिमा पर किया माल्यार्पण, भारत जोड़ो यात्रा के बाद अब हाथ से हाथ जोड़ो अभियान के तहत घर-घर जाकर किया संपर्क, कांग्रेस के प्रदेश महासचिव जेवियर मेड़ा एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रांका के नेतृत्व में हुआ कार्यक्रम

[adsforwp id="60"]
error: Content is protected !!