दिल्ली हिंसा: घरों की छत से मुश्तारी खातून ने बचाईं 40 जिंदगियां

 
नई दिल्ली

दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा 42 पहुंच चुका है। नालों और जले घरों-गाड़ियों से निकलने वाली लाशें लोगों को और भी डरा रही हैं। वहीं इस हिंसा के बाद बहुत सी ऐसी कहानियां सामने आ रही हैं, जो हिंदू-मुस्लिम भाईचारे की दास्तां बता रही हैं या फिर किसी को हीरो बना रही हैं। ऐसी ही एक कहानी है मुश्तारी खातून की, जो अधिकतर अपने घर में ही रहती हैं और सिलाई का काम करती हैं, ताकि परिवार के भरण-पोषण में पति का हाथ बंटा सकें। लेकिन 25 फरवरी को उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों में 42 साल की खातून घर से बाहर निकलीं और बहुत सारे लोगों की जान बचाकर हीरो बन गईं।

25 फरवरी को जब खातून के परिवार को मदद की जरूरत थी, तो वह दंगों भरी सड़कों से पत्थरों और पेट्रोल बम से बचते हुए करीब 1 किलोमीटर चलकर अपने परिवार को बचाने खजूरी खास पहुंचीं। वहां एक-दो नहीं, बल्कि 40 लोग फंसे हुए थे, जिन्हें मुश्तारी खातून ने बड़ी होशियारी से बचाकर निकाल लिया। इसके लिए उन्होंने घरों की छतों का इस्तेमाल किया और उन्हीं से होते हुए वह सभी 40 लोगों को लेकर पुलिस की एक टीम तक जा पहुंचीं, जिन्होंने सभी को सुरक्षा मुहैया कराई।
 
मुश्तारी खातून बन गईं 'एक हीरो'
वह अपने पति के साथ चंदू नगर में रहती हैं और अब वहां लोग उन्हें 'एक हीरो' कहने लगे हैं। खातून ने शनिवार को बताया कि वह जानती थीं कि अगर कोई खजूरी खास नहीं जाता, तो वहां फंसे सभी 40 लोगों की जान जा सकती थी। वह अब खुश हैं कि उनकी भतीजी और भांजी सही सलामत हैं। मुश्तारी कहती हैं कि उन्होंने सोमवार को पूरे दिन इंतजार किया, लेकिन मंगलवार को वह सुबह-सुबह ही अपने परिवार की मदद के लिए निकल पड़ीं। बता दें कि खजूरी खास मेन करावल रोड पर है, जहां भारी संख्या में दंगाई जमा थे। जब खातून खजूरी खास में फंसे रिश्तेदारों को बचाने पहुंचीं तो उन्होंने देखा कि सड़कों से निकलते का कोई रास्ता नहीं है। हर जगह दंगाइयों की भीड़ थी, जो एक दूसरे पर हमले कर रही थी और कारों, बाइकों और घरों को आग के हवाले कर रही थी।
 
घरों की छतों से निकाले 40 लोग
खातून ने बताया कि वहां पहुंचने के बाद अगले 4 घंटे काफी खतरनाक थे, क्योंकि वहां आस-पास दंगाई जमा होते जा रहे थे। वहां सारे लोग पहले एक जगह पर जमा हुए। तेजी से करीब आती भीड़ को देखकर खातून ने कहा कि घरों की छतों पर कूदकर यहां से निकला जाए। ऐसे में कम उम्मीद थी कि भीड़ उन्हें देख पाती। बता दें कि वहां घर काफी नजदीक या चिपके हुए हैं। खातून ने लोगों की मदद के लिए अपने पड़ोसियों को भी बुला लिया था। इस तरह वह एक पुलिस टीम तक जा पहुंचे, जिन्होंने सबको चंदू नगर तक जाने के लिए मुख्य मार्ग पर सुरक्षा दी। पुलिस के साथ चंदू नगर के करीब 100 लोगों ने सबको बचा लिया।
 
मुश्तारी खातून ने 8 परिवारों को बचाया, जो उनके रिश्तेदार ही हैं। वह बताती हैं कि उन्हें डर नहीं लग रहा था। उनका फोकस सिर्फ इस बात पर था कि कैसे परिवार को यहां से बाहर निकाला जाए। वह बोलीं- हमें कोई मदद नहीं मिल रही थी। वहां लोग लाठी-डंडे, पत्थर और पेट्रोल बम लिए गलियों में मौजूद थे और पुलिस दूर-दूर तक कहीं नहीं दिख रही थी। अगर मैंने सबको बचाने का फैसला नहीं किया होता तो बहुत से लोगों की जान चली जाती।
 

Noman Khan
Author: Noman Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

बड़ी खबर – झाबुआ जिले के लिए गौरव का क्षण, झाबुआ की सांस्कृतिक एवं पारंपरिक कलाओं को संरक्षित तथा संवर्धित करने वाले रमेश परमार एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती शांति परमार का पद्मश्री-2023 सम्मान के लिए हुआ चयन, दिल्ली से चयन की प्राप्त हुई सूचना, शारदा समूह एवं समस्त स्नेहीजनों ने शुभकामनाएं प्रेषित की

नाबार्ड द्वारा जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित झाबुआ के महाप्रबंधक आरएस वसुनिया को दीर्घावधि पुर्नवित्त क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित किया गया, बैंक स्टाॅफ ने शुभकामनाएं प्रेषित की

विधानसभा चुनाव-2023 में युवा मोर्चा की रहेगी विशेष भूमिका -ः भाजपा जिला महामंत्री सोमसिंह सोलंकी, ‘‘खेलेगा मप्र, खिलेगा कमल’’ महाभियान’’ में प्रत्येक मंडल स्तरों पर युवाओं के अधिकाधिक आनलाईन रजिस्ट्रेशन के साथ 7-8 खेल गतिविधियां की जाएं -ः भाजयुमो जिलाध्यक्ष कुलदीपसिंह चौहान, भाजयुमो की जिला इकाई एवं समस्त मंडलों की बैठक हुई संपन्न

गायत्री शक्तिपीठ काॅलेज मार्ग पर तीन दिवसीय बसंतोत्सव धूमधाम से एवं हर्षोल्लापूर्वक मनाया जा रहा, प्रथम दिन कलश यात्रा एवं नारी जागरण तथा सम्मान समारोह का हुआ आयोजन, दूसरे दिन गायत्री परिजनों ने गायत्री महामंत्र एवं शिव मृत्युंजय महामंत्र के किए सामूहिक जाप, 26 जनवरी को यज्ञ एवं विभिन्न संस्कार होंगे

बड़ी खबर – झाबुआ जिले के लिए गौरव का क्षण, झाबुआ की सांस्कृतिक एवं पारंपरिक कलाओं को संरक्षित तथा संवर्धित करने वाले रमेश परमार एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती शांति परमार का पद्मश्री-2023 सम्मान के लिए हुआ चयन, दिल्ली से चयन की प्राप्त हुई सूचना, शारदा समूह एवं समस्त स्नेहीजनों ने शुभकामनाएं प्रेषित की

नाबार्ड द्वारा जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित झाबुआ के महाप्रबंधक आरएस वसुनिया को दीर्घावधि पुर्नवित्त क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित किया गया, बैंक स्टाॅफ ने शुभकामनाएं प्रेषित की

विधानसभा चुनाव-2023 में युवा मोर्चा की रहेगी विशेष भूमिका -ः भाजपा जिला महामंत्री सोमसिंह सोलंकी, ‘‘खेलेगा मप्र, खिलेगा कमल’’ महाभियान’’ में प्रत्येक मंडल स्तरों पर युवाओं के अधिकाधिक आनलाईन रजिस्ट्रेशन के साथ 7-8 खेल गतिविधियां की जाएं -ः भाजयुमो जिलाध्यक्ष कुलदीपसिंह चौहान, भाजयुमो की जिला इकाई एवं समस्त मंडलों की बैठक हुई संपन्न

गायत्री शक्तिपीठ काॅलेज मार्ग पर तीन दिवसीय बसंतोत्सव धूमधाम से एवं हर्षोल्लापूर्वक मनाया जा रहा, प्रथम दिन कलश यात्रा एवं नारी जागरण तथा सम्मान समारोह का हुआ आयोजन, दूसरे दिन गायत्री परिजनों ने गायत्री महामंत्र एवं शिव मृत्युंजय महामंत्र के किए सामूहिक जाप, 26 जनवरी को यज्ञ एवं विभिन्न संस्कार होंगे

आध्यात्म एवं मेडिटेशन से जुड़कर बलिकाएं अपने व्यक्तित्व तथा कृतित्व में लाए निखार -ः बीके जयंती दीदी, ब्रम्हकुमारी संस्था (शिव स्मृति भवन) पर राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 51 ग्रामीण बालिकाओं का किया गया सम्मान, पुरस्कार स्वरूप बाल-पेन प्रदान किए गए, बालिकाओं के लिए विभिन्न मनोरंजक गेम्स रखे गए

[adsforwp id="60"]
error: Content is protected !!

बड़ी खबर – झाबुआ जिले के लिए गौरव का क्षण, झाबुआ की सांस्कृतिक एवं पारंपरिक कलाओं को संरक्षित तथा संवर्धित करने वाले रमेश परमार एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती शांति परमार का पद्मश्री-2023 सम्मान के लिए हुआ चयन, दिल्ली से चयन की प्राप्त हुई सूचना, शारदा समूह एवं समस्त स्नेहीजनों ने शुभकामनाएं प्रेषित की

नाबार्ड द्वारा जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित झाबुआ के महाप्रबंधक आरएस वसुनिया को दीर्घावधि पुर्नवित्त क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित किया गया, बैंक स्टाॅफ ने शुभकामनाएं प्रेषित की